नावकोठी प्रखण्ड क्षेत्र अंतर्गत ररिऔना गांव में एक दिवसीय किसान संगोष्ठी सह किसान प्रशिक्षण कार्यक्रम का किया गया आयोजन।

171

नावकोठी (बेगूसराय) :  कहा जाता है कि जिस देश का किसान खुशहाल उस देश का एक भी नागरिक भूखा नहीं रहता और जिस तरह माता-पिता को अपने संतान को देखकर खुशी मिलते हैं ठीक उसी तरह किसान को अपने फसलों को देखकर । भारत जैसे कृषि प्रधान देश में किसानों को समुचित मात्रा में उचित किस्म के बीज ससमय नहीं मिल पाने के कारण इस देश के फसल प्रभावित होते हैं जिससे किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है ।

पायनियर कंपनी के क्षेत्रीय निदेशक गंगा प्रसाद यादव ने किसान सभा सह किसान प्रशिक्षण कार्यशाला की पहली तस्वीर ।

इन्हीं समस्याओं के समाधान को लेकर समय-समय पर अनेक बीज कंपनियां अपने-अपने अनुसार अनेक संकर किस्म के बीज लेकर किसानों के बीच आते रहते हैं जिसको किसान अपने अनुसार अपने-अपने खेतों में लगाते हैं जिसमें सही बीज का चयन नहीं कर पाने के कारण किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है उनके इन समस्याओं को के समाधान हेतु उत्तम किस्म के बीज की अग्रणी व सर्वश्रेष्ठ कंपनी जो वर्षों-वर्षों से हमारे देश में अपने बीजों को किसानों के बीच देकर सभी कंपनियों के अपेक्षा अच्छा उत्पादन देकर अपना लोहा मनवा चुका है ।

किसान कार्यशाला की दूसरी तस्वीर ।

इसी कड़ी के अंतर्गत दिनांक – 23/08/2022 (शनिवार) को ररिऔना गांव में पायनियर कंपनी के क्षेत्रीय अधीक्षक श्री गंगा प्रसाद यादव कहा जाता है कि जिस देश का किसान खुशहाल उस देश का एक भी नागरिक भूखा नहीं रहता और जिस तरह माता-पिता को अपने संतान को देखकर खुशी मिलते हैं ठीक उसी तरह किसान को अपने फसलों को देखकर ।  भारत जैसे कृषि प्रधान देश में किसानों को समुचित मात्रा में उचित किस्म के बीज ससमय नहीं मिल पाने के कारण इस देश के फसल प्रभावित होते हैं जिससे किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है ।

इन्हीं समस्याओं के समाधान को लेकर समय-समय पर अनेक बीज कंपनियां अपने-अपने अनुसार अनेक संकर किस्म के बीज लेकर किसानों के बीच आते रहते हैं जिसको किसान अपने अनुसार अपने-अपने खेतों में लगाते हैं जिसमें सही बीज का चयन नहीं कर पाने के कारण किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है उनके इन समस्याओं  के समाधान हेतु उत्तम किस्म के बीज की अग्रणी व सर्वश्रेष्ठ कंपनी जो वर्षों-वर्षों से हमारे देश में अपने बीजों को किसानों के बीच देकर सभी कंपनियों के अपेक्षा अच्छा उत्पादन देकर अपना लोहा मनवा चुका है ।

किसान कार्यशाला की तीसरी तस्वीर ।

इसी कड़ी के अंतर्गत दिनांक – 23/08/2022 (शनिवार) को ररिऔना गांव में पायनियर कंपनी के क्षेत्रीय अधीक्षक श्री गंगा प्रसाद यादव के द्वारा एक किसान सभा सह किसान प्रशिक्षण कार्यक्रम रखा गया जिसमें किसानों को पायनियर मक्का के बीज P3526 के बारे में किसानों को स्टेप बाय स्टेप करके सरल से सरल शब्दों में बताएं जिसके उपरांत किसानों ने अपने-अपने प्रश्न भी उनके समक्ष रखें तथा उन प्रश्नों का जवाब श्री गंगा प्रसाद यादव जी ने सरल व सटीक शब्दों में देकर उन्हें शत्-प्रतिशत समझाएं साथ ही उन्होंने किसानों से यह भी अपील किए कि आप जो खरीफ फसल लगाने जा रहे हैं उनमें मक्का के सही बीजों का चयन करें जिसमें आपके लिए सबसे बेहतर क्वालिटी P3526 किस्म के मक्का का बीज है।जो कि प्रति एकड़ 52 से 53 क्विंटल देती है जबकि अन्य मक्का के बीज मात्र 45 क्विंटल ही देता है ।

प्रति एकड़ 5 से 6 क्विंटल अधिक उपज होने से किसानों को आर्थिक लाभ अधिक मिलता है ।  इस कार्यक्रम में मौके पर मुख्य किसान के रूप में राम शंकर यादव, सुबोध कुमार, संजय महतों तथा वहां के स्थानीय जनप्रतिनिधि गण व सैकड़ों किसान मौजूद थे इस कार्यक्रम को अंतिम रूप देने के लिए वहां के स्थानीय जनप्रतिनिधि अपने संबोधन के माध्यम से कार्यक्रम को समापन किए ।

एक किसान सभा सह किसान प्रशिक्षण कार्यक्रम रखा गया जिसमें किसानों को पायनियर मक्का के बीज P3526 के बारे में किसानों को स्टेप बाय स्टेप करके सरल से सरल शब्दों में बताएं जिसके उपरांत किसानों ने अपने-अपने प्रश्न भी उनके समक्ष रखें तथा उन प्रश्नों का जवाब श्री गंगा प्रसाद यादव जी ने सरल व सटीक शब्दों में देकर उन्हें शत्-प्रतिशत समझाएं साथ ही उन्होंने किसानों से यह भी अपील किए कि आप जो खरीफ फसल लगाने जा रहे हैं उनमें मक्का के सही बीजों का चयन करें जिसमें आपके लिए सबसे बेहतर क्वालिटी P3526 किस्म के मक्का का बीज है।जो कि प्रति एकड़ 52 से 53 क्विंटल देती है जबकि अन्य मक्का के बीज मात्र 45 क्विंटल ही देता है। प्रति एकड़ 5 से 6 क्विंटल अधिक उपज होने से किसानों को आर्थिक लाभ अधिक मिलता है ।

इस कार्यक्रम में मौके पर मुख्य किसान के रूप में राम शंकर यादव, सुबोध कुमार, संजय महतों तथा वहां के स्थानीय जनप्रतिनिधि गण व सैकड़ों किसान मौजूद थे इस कार्यक्रम को अंतिम रूप देने के लिए वहां के स्थानीय जनप्रतिनिधि अपने संबोधन के माध्यम से कार्यक्रम को समापन किए  ।