ईआरडीओ आयोजक ने “विकसित समाज निर्माण संस्थान”धरमपुर (गढपुरा)बेगूसराय की ओर से भारतीय शिक्षा पद्धति के लिए विजन दुहराया है ।

321
गढ़पुरा(बेगूसराय) : “ विकसित समाज निर्माण संस्थान “धरमपुर, गढ़पुरा (बेगूसराय) के सचिव सह ईआरडीओ आयोजक जेपी सर ने गोल  / विजन भारतीय शिक्षा पद्धति के लिए तय किए हैं।
मेरे प्यारे शिक्षाविद् मित्रों,                                                               भारतीय  गणराज्य  के 11वें भूतपूर्व महामहिम वैज्ञानिक राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम जी के मार्गदर्शन व दिशा-निर्देशन में विचाराधीन प्रस्ताव -“ईआरडीओ” शिक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन नामक संगठन का गठन कर (शिक्षा मंत्रालय ,भारत सरकार )को सौंपने वास्ते पंचवर्षीय योजना:-2020-25 की “राष्ट्रीय डायरी  -2025 ”   राष्ट्र को समर्पित करने की एक मात्र कार्य प्रणाली है।भारतीय शिक्षा पद्धति  में व्यापक व गुणात्मक सुधार हेतु राष्ट्रव्यापी कार्य – योजना है।फलस्वरूप मैं गुणवत्ता-पूर्ण शिक्षा प्रणाली  को पटरी अर्थात् धरातल पर लागू करवाने के वास्ते कृत -संकल्पित हूँ।
मैं इस कार्य प्रणाली को नया रूप देने हेतु भारतीय गणराज्य के 14 वें महामहिम राष्ट्रपति -श्री रामनाथ कोविन्द जी के अनुसंशनीय पहल से व उनके सबल प्रयास से एवं पत्रांक -18-63/2020-आईएस – 15 अनुभाग  , दिनांक -15 अक्टूबर 2020 स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग , आईएस-15 अनुभाग  शास्त्री भवन , नई दिल्ली , भारत / शिक्षा मंत्रालय , भारत सरकार के द्वारा अनुमति पर कार्य आरंभ कर दिया हूँ । मैं श्री जयप्रकाश वर्मा, आयोजक  ( ईआरडीओ ) सह सचिव, विकसित समाज निर्माण संस्थान- धरमपुर (गढपुरा)बेगूसराय परमपूज्य  गुरूदेव की असीम कृपा से, राष्ट्र समर्पण भावना की दृष्टिकोण से, तन-मन-क्षण तीनों न्योछावर करने  के लिए प्रतिवद्ध हूँ। मेरा प्रयास जारी है।कार्य प्रगति पर है।
मेरे सबल प्रयास से यह कार्य धरातल पर जारी है। गोल / ऐम यानि लक्ष्य , जागृति फैलाने के लिए लम्बी आयु की आवश्यकता होती है।इसके लिए मुझे हीं “संकल्प वर्ष 2025”,तय करना पड़ा। इसके सफलता की योजना, “पंचवर्षीय योजना -2020-25”, पांच वर्ष की लम्बी आयु , जो कि काफी कम है।                                                               इस कार्य प्रणाली को पटरी अर्थात् धरातल पर लागू करवाने के लिए काफी मशक्कत का सामना करना पड़ता है जिसे कर पाने के लिए सक्षम हीं नहीं एक भारत देश के सपूत होने के नाते /भारतीय नागरिक /कार्ययोद्धा देशभक्त के अनुरूप विराजमान हूँ।।धन्यवाद्।।                                                            🙏🙏  🙏   भारत  माता की जय,🙏🙏🙏     वन्दे मातरम्।।🙏जय हिन्द, जय भारत, जय ईआरडीओ।।🙏🙏🙏