प्रमिला देवी पब्लिक स्कूल मौजी थानसिंह के द्वारा वार्षिक परीक्षा परिणाम घोषणा उपरांत सम्मान समारोह किया गया आयोजन ।

516

गढपुरा(बेगूसराय) :  गढ़पुरा प्रखंड क्षेत्र के सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाका में मौजी हरिसिंह पंचायत अन्तर्गत मौजी थानसिंह में नीजि विद्यालय प्रमिला देवी पब्लिक स्कूल के तत्वावधान में वार्षिक परीक्षा परिणाम घोषणा उपरांत अतिथि सत्कार छात्राओं के द्वारा स्वागत गान प्रस्तुत करके किया गया । विद्यार्थी सम्मान समारोह की अध्यक्षता इस विद्यालय के  प्रधानाध्यापक राजेश कुमार ने की । समारोह के मुख्य अतिथि गढ़पुरा 11 (बेगूसराय) की नवनिर्वाचित जिला पार्षद सदस्य सह अधिवक्ता उच्च न्यायालय पटना (बिहार) की श्रीमती किरण कुमारी ने छात्र छात्राओं को संबोधित करते हुए कही कि प्रचंड विद्वान शिक्षाविद् के अनुसार परीक्षा शब्द का शाब्दिक अर्थ पर + इच्छा  अर्थात् दूसरों के द्वारा दिया गया परिणाम हीं परीक्षा कहा जाता है । इसीलिए तो कहा गया है विद्यार्थियों को प्रदान किया गया परिणाम ही परीक्षा शब्द का सही अर्थ होता है । विशिष्ट अतिथि श्रीमती नूतन देवी प्रखंड उपप्रमुख गढ़पुरा की उपस्थिति प्रार्थनीय रही ।

प्रमिला देवी पब्लिक स्कूल के प्रधानाध्यापक राजेश कुमार जी की मां प्रमिला देवी ने जिला पार्षद सदस्य अधिवक्ता किरण कुमारी को फूल माला पहनाकर एवं चादर सम्मानित की।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति बिहार , पटना द्वारा जारी दशम् वर्ग की परीक्षा परिणाम में  बबली कुमारी 352 अंक , अजीत कुमार 332 अंक  लाकर प्रथम श्रेणी से  उत्तीर्ण हुए । वहीं दूसरी ओर  रौशन कुमार 278 अंक , रानी कुमारी 262 अंक , पूष्पांजलि कुमारी  252 अंक , गुड़िया कुमारी  248 अंक  एवं रंजन कुमार 246 अंक लाकर द्वितीय श्रेणी से उत्तीर्ण हुए ।

छात्रा बबली कुमारी को जिला परिषद सदस्य अधिवक्ता किरण कुमारी ने मेडल पहनाकर एवं उपहार देकर सम्मानित की ।

सम्मान समारोह के मौके पर सभी विद्यार्थियों को अतिथिगण के द्वारा सम्मानित किया गया साथ हीं अतिथियों को विद्यालय परिवार ने माला पहनाकर व चादर से सम्मानित किया जबकि अतिथियों के द्वारा विद्यालय परिवार को सम्मानित किया गया । इस तरह कार्यक्रम से छात्र – छात्राओं को पढ़ाई के प्रति मनोबल बढ़ती है वही मौके पर पंचायत वर्तमान मुखिया श्रीमती हीरा देवी , श्रीमती अनिता देवी ,वर्तमान सरपंच , हरेकृष्ण यादव निदेशक  एसडीएसभीएम  सांवत  , छौड़ाही , उपमुखिया रंजना देवी , जिला परिषद सदस्य पति  सर्वजीत कुमार  समेत विद्यालय परिवार के सभी सदस्य एवं विद्यार्थियों के अभिभावक मुख्य रूप से उपस्थित रहे ।

“बेटा से क्या तुलना करना , बेटा से है बेटी न्यारी । बस बेटा तो एक फूल है , बेटी     है     फूलवारी ।। “ कहने का अर्थ यह है कि –                                      एक बेटा को पढ़ाने से एक व्यक्ति मात्र का निर्माण होता है , जबकि एक बेटी को पढ़ाते हैं तो दो परिवार का निर्माण होता है ।