विभूतिपुर प्रखण्ड अन्तर्गत नरहन डीएवी आवासीय विद्यालय में छात्र का हुआ मौत , विद्यालय संचालक बिना अभिभावक का ही करा दिया पोस्टमार्टम।

204

गढ़पुरा(बेगूसराय): मृतक अरजीत कुमार के मां का रो-रो कर बुरा हाल । समस्तीपुर जिला के विभूतिपुर प्रखंड के नरहन बाजार के बगल के क्षेत्र में एक प्राइवेट डीएवी आवासीय विद्यालय है जिसमें बेगूसराय जिला के गढ़पुरा प्रखंड के दुनही पंचायत के अंतर्गत कनौसी ग्राम निवासी पवन दास का 10 वर्षीय पुत्र अरजीत कुमार का डीएवी आवासीय विद्यालय मौत हो गया । जिसके बाद स्कूल संचालक रौशन सिंह अभिभावक को बिना बताए ही लाश का पोस्टमार्टम करवाकर किसी अन्य व्यक्ति के सहायता से समस्तीपुर के सरकारी एंबुलेंस के द्वारा उनके ग्राम कनौसी में लाश को लावारिस की तरह भेजवा दिया और सभी आवासीय विद्यार्थियों को छुट्टी दे कर के विद्यालय में ताला मार कर विद्यालय से फरार हो चुका है तथा रौशन सिंह और उसके सभी स्टाफ अपना अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर लिया ।

मृतक अरजीत कुमार के पोस्टमार्टम के बाद शव की तस्वीर।
गढ़पुरा प्रखंड के दुन्ही पंचायत के कनौसी ग्राम छाया मातम व मचा मृतक के परिजनाें में कोहराम ।

अभिभावक की ओर से बड़ी मशक्कत करने पर उसे स्कूल के किसी सहयोगी शिक्षक से बात हुआ तो उधर से इतना ही बताया गया कि आपका बेटा मर गया है उसके बाद वह भी अपना मोबाईल स्विच ऑफ कर लिया । जब अभिभावक स्कूल के संचालक रौशन सिंह से पूंछा कि मेरा बेटा कब और कैसे मरा तो रौशन सिंह ने बताया कि गेंद खेलने के दौरान किसी तालाब में डूब गया जिससे उसका मौत हो गया , लेकिन अभिभावक का कहना है कि मेरा बेटा जब मरा तो मुझे खबर क्यों नहीं किये ? और मेरे अनुपस्थिति में उसका पोस्टमार्टम क्यों करवाया गया  ? और पोस्टमार्टम का रिपोर्ट मुझे क्यों नहीं मिला ? अभिभावक का आरोप है कि मेरे बेटे को किसी साजिश के तहत मार कर पोस्टमार्टम करवाकर विद्यालय के संचालक रौशन सिंह डर से किसी के द्वारा मेरे घर पर मेरे बेटे के लाश को भेजवा दिया और वह वहां से भाग गया।
गढ़पुरा के स्थानीय थाना मृतक के घर पर पहुंचकर समूचे मामले को अपने संज्ञान में लेकर जांच का आश्वासन दिया व पंचायत के मुखिया ने मृतक परिवार को कहा कि आप अपने बेटे का दाह संस्कार कर लीजिए आप को उचित मुआवजा एवं न्याय दिलाएंगे और जो दोषी पाया जाएगा उनके ऊपर त्वरित कानूनी कार्रवाई की जाएगी । परिजनों का कहना यह है कि मेरा बेटा पहले रक्शी स्थित संत कबीर स्कूल में पढ़ता था लेकिन रौशन सिंह ने मेरे बेटे को बहला-फुसलाकर वहां से ले गया और दो साल बाद मार दिया । रौशन सिंह ने मेरे बेटा को मार दिया है जान बचाकर खुद भाग गया । ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार इस परिवार में पांच बहन पर इकलौता भाई था बेटा अरजीत ,जिसे दुश्मनमा विद्यालय संचालक रौशन सिंह ने परिवारवालों के हाथ से छीन लिया ।