जयनगर-जनकपुर धाम-कुर्था रेलखंड पर डेमू ट्रेन को हरी झंडी

80

समस्तीपुर(बिहार) :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउवा ने हैदराबाद हाउस, नई दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हरी झंडी दिखाकर नव आमान परिवर्तित जयनगर-जनकपुर- कुर्था रेलखंड पर रेल यात्री सेवा का शुभारंभ किया.इस अवसर पर नेपाल से प्रतिनिधि मंडल जयनगर पहुंचा था जो आज जयनगर से रवाना हुई इस डेमू ट्रेन से यात्रा करते हुए नेपाल के जनकपुर तक गये ।

जयनगर-जनकपुर धाम-कुर्था रेलखंड पर डेमू ट्रेन को हरी झंडी । 

पूर्व मध्य रेल के महाप्रबंधक अनुपम शर्मा के नेतृत्व में पूर्व मध्य रेल, इरकॉन एवं कोंकण रेल के उच्चाधिकारियों का एक प्रतिनिधि मंडल जयनगर से जनकपुर तक यात्रा की ।
ट्रेन के जनकपुर पहुंचने पर नेपाल सरकार द्वारा जनकपुर में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था.इस कार्यक्रम में नेपाल सरकार के साथ भारतीय प्रतिनिधि मंडल भी शामिल हुए ।
जनकपुर धाम में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व मध्य रेल के महाप्रबंधक अनुपम शर्मा, प्रधान मुख्य यांत्रिक इंजीनियर अशोक कुमार मिश्र, प्रधान मुख्य सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर राजेश कुमार, समस्तीपुर मंडल के मंडल रेल प्रबंधक आलोक अग्रवाल, मुख्य यात्री परिवहन प्रबंधक आधार राज, समस्तीपुर मंडल के अपर मंडल रेल प्रबंधक जफर आजम, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी वीरेन्द्र कुमार, महाप्रबंधक के सचिव अमन राज, इरकॉन के सीएमडी योगेश कुमार मिश्र एवं कोंकण रेलवे के सीएमडी संजय गुप्ता सहित अन्य उच्चाधिकारीगण कार्यक्रम में उपस्थित थे ।
1937 में नैरोगेज से शुरू हुई थी सेवा
विदित हो कि वर्ष 1937 में भारत के जयनगर और नेपाल के बैजलपुर के मध्य नैरो गेज पर ट्रेनों के परिचालन की शुरूआत की गयी थी.वर्ष 2001 में नेपाल में आयी भीषण बाढ त्रासदी़ में कुछ रेलपुलों के बह जाने के कारण नेपाल में जनकपुर से आगे ट्रेन सेवा बंद करना पड़ा था जबकि जनकपुर से जयनगर तक मार्च, 2014 तक ट्रेनों का परिचालन जारी रहा. विदेश मंत्रालय, भारत सरकार एवं नेपाल सरकार के आपसी समझौते के तहत् जयनगर-बैजलपुरा-बर्दीबास के बीच नई बड़ी रेल लाईन स्थापित करने का निर्णय लिया गया ।
68 किलोमीटर लंबी योजना
जयनगर-बिजलपुरा-बर्दीबास रेल परियोजना की कुल लंबाई 68.72 किलोमीटर है. इस रेलखंड पर 127 छोटे पुल तथा 15 बड़े रेलपुल, 08 स्टेशन, 06 हॉल्ट तथा 47 रोड क्रॉसिंग स्थित है .जयनगर-बिजलपुरा-बर्दीबास रेल परियोजना बिहार के मधुबनी जिला एवं नेपाल के धनुसा महोतारी और सिरहा जैसे कृषि योग्य एवं सघन आबादी वाले जिले से गुजरता है. इस रेलखंड पर भारत के जयनगर एवं नेपाल के इनरवा स्टेशनों पर कस्टम चेकिंग प्वाइंट बनाए गए हैं ।
भारत के जयनगर और नेपाल के कुर्था के बीच डेमू सेवा के परिचालन प्रारंभ हो जाने के दोनों देशों के बीच वाणिज्यिक गतिविधियों में वृद्धि होगी और सांस्कृतिक आदान-प्रदान में बढ़ोत्तरी होगी.साथ ही दोनों देशों के बीच पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगाा ।