शोषित समाज दल के रामानुज सिंह “गौतम” द्वारा लिखित विचार।

92

पटना   (बिहार) :   बिहार में जन प्रतिनिधियों की हत्या अनवरत जारी है । क्यों? यही सुशासन राज का लक्षण है , क्या? हम आम लोग न्याय के लिए कितना कैडिल मार्च करते रहेंगे ? अब ऐसा नहीं होगा । कैसे ? त्वरित न्याय करो । दोषी को तुरंत दंडित करो । भविष्य में किसी की हत्या करने से पहले अपराधी लाखों बार सोचेगा । अपराध शून्य की ओर बढ़ेगा । अगर हत्याकर्मी, जाँचकर्ता और न्यायकर्मी में गठबंधन होगा , तो अपराध रुकेगा क्या ? नहीं न । अप्रत्यक्ष रुप से शोसद को छोड़कर सभी राजनीतिक दलों का संबंध अपराधी से किसी न किसी तरह का होता है । यही सबुत है , समाज से अपराध नहीं ख़त्म होने का ।

पुलिस अपराधी के ख़िलाफ़ तुरंत सबुत जुटायेंगे, न्याय कर्मी त्वरित न्याय करेंगे और अपराधी दंडित होगा । लेकिन ऐसा कब होगा, जब राज्य में स्वच्छ शासन करने वाली सरकार होगी । नीतिश राज का पहला शासन काल बेहतर था । क्यों? लालुराज का दुसरा शासन काल सराहनीय था । क्यों? विचारणीय विषय है । परिवर्तन दुनिया का प्राकृतिक नियम है । परिवर्तन करो । परिवर्तन के साथ रहो । समझने के लिए आज इतना काफ़ी है । 

जब नरबलि पर रोक लगाई गई तब शैतान चिल्लाए कि धर्म खतरे में!
#जब नवविवाहिता का ब्राह्मण पुरोहितों द्वारा 3 दिन तक शुद्धीकरण प्रथा पर रोक लगाई गई !तब शैतान चिल्लाए धर्म खतरे में!
#जब सती प्रथा पर रोक लगी तब शैतान जोर जोर से चिल्लाए धर्म खतरे में!
#जब साहू महाराजा ने मूलनिवासियों को प्रतिनिधित्व दिया। तब शैतान चिल्लाए धर्म खतरे में!
#जब 1932 में एससी एसटी को प्रतिनिधित्व मिला तब शैतान चिल्लाए की धर्म खतरे में!
#जब ओबीसी को संविधान के अनुच्छेद 340 के अनुसार प्रतिनिधित्व देने की बात आई तो शैतान चिल्लाए धर्म खतरे में।
#जब हिंदू कोड बिल आया तब शैतान चिल्लाए धर्म खतरे में!
#जब अन्य पिछड़े वर्गों को प्रतिनिधित्व देने वाली काका कालेलकर कमिशन रिपोर्ट आई तब शैतान चिल्लाए धर्म खतरे में!
#जब अन्य पिछड़े वर्गों को प्रतिनिधित्व देने के लिए मंडल कमीशन की रिपोर्ट आई तब शैतान चिल्लाए धर्म खतरे में!
#आज ओबीसी एससी एसटी और इनसे धर्म परिवर्तित समाज अपने आपको मूलनिवासी नाम से संगठित कर रहा है !तो फिर शैतान चिल्ला रहे हैं धर्म खतरे में!
अब आप को समझ जाना चाहिए कि धर्म खतरे में नहीं ,शैतानवाद खतरे में है।
रामानुज सिंह “गौतम”:-+91 94312 00894: सही बात है । शैतान चिल्लाने में माहिर है और जनता भी विश्वास कर गुमराह होती रही है । इसलिए सबको गुणवत्ता युक्त शिक्षा दो , शिक्षित करो । शैतानों की सीटी पीटी गुम करो ।

सधन्यवाद।