राजस्व वृद्धि में टॉप पर पूमरे

53

राजस्व वृद्धि में टॉप पर पूमरे

प्रतिनिधि, समस्तीपुर: पूर्व मध्य रेलवे ने चालू वित्त वर्ष 2021-22 के 5 मार्च तक यात्री यातायात, माल ढुलाई से प्राप्त होने वाला राजस्व रिकॉर्ड वृद्धि के साथ 20 हजार करोड़ को पार कर गया है. यह रेल राजस्व पूर्व मध्य रेल को अब तक के किसी भी वित्त वर्ष में प्राप्त रेल राजस्व की तुलना में सर्वाधिक है. सी पी आर ओ विरेंद्र कुमार ने बताया कि पिछले वित्त वर्ष अर्थात 2020-21 में पूर्व मध्य रेल को 14,507.76 करोड़ का रेल राजस्व प्राप्त हुआ था. वहीं चालू वित्त वर्ष 2021-22 के 5 मार्च तक 20,034.38 करोड़ रूपए का राजस्व प्राप्त हुआ है, जो वर्ष 2020-21 की तुलना में 5526.62 करोड़ रूपए अधिक है. इस प्रकार वित्त वर्ष 2020-21 की तुलना में 2021-22 में हुई राजस्व वृद्धि के मामले में पूर्व मध्य रेल भारतीय रेल में प्रथम स्थान पर रहा.
इसके पहले पूर्व मध्य रेल द्वारा माल लदान के क्षेत्र में चालू वित्तीय वर्ष 2021-22 के फरवरी माह तक 150.07 मीलियन टन माल का लदान किया गया था. यह पूर्व मध्य रेल द्वारा किसी एक वित्तीय वर्ष में किये गये माल लदान की तुलना में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. इसके साथ ही पूर्व मध्य रेल को किसी एक वित्त वर्ष में 150 मिलियन टन या इससे अधिक माल का लदान करने वाले भारतीय रेल के 3 अन्य क्षेत्रीय रेलों के विशिष्ट क्लब में शामिल होने का गौरव प्राप्त है.