प्रशासन नफरत की राजनीति करने वालों को संरक्षण देना बंद करे- इनौस*

72

खलील रिजवी हत्याकांड के खिलाफ सैकड़ों लौगों ने ‘न्याय मार्च’ निकालकर हत्यारे को स्पीडी ट्रायल से सजा देने की मांग की*

*मृतक के परिजन को 20 लाख रूपये मुआवजा एवं नौकरी मिले-उमेश कुमार*

*नफरत की राजनीति के खिलाफ समस्तीपुर में अमन-चैन-भाईचारा कायम रखने को आगे आएं जिलेवासी- इंसाफ मंच*

*प्रशासन नफरत की राजनीति करने वालों को संरक्षण देना बंद करे- इनौस*

ताजपुर

सरायरंजन के रूपौली निवासी खलील रिजवी हत्याकांड के सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर स्पीडी ट्रायल चलाकर सजा देने, घटना की उच्च स्तरीय जांच कराने, मृतक के परिजनों को 20 लाख रुपये मुआवजा एवं परिजन को नौकरी देने, नफरत की राजनीति पर रोक लगाने की मांग को लेकर भाकपा माले इंसाफ मंच एवं इनौस के कार्यकर्ताओं ने अपने- अपने हाथों में झंडे-बैनर लेकर मुसरीघरारी पछियारी पेट्रोल पंप से सोमवार को विशाल न्याय मार्च निकाला.
मार्च में शामिल हजारों कार्यकर्ताओं ने मांगों से संबंधित नारे लगाते हुए मार्च बाजार क्षेत्र का भ्रमण कर मुसरीघरारी चौराहा हुंचकर मार्च सभा में तब्दील हो गया. नौजवान मांगों से संबंधित नारे लिखे तख्तियां हवा में लहरा रहे थे. इससे घंटों सड़क जाम की स्थिति रहीं. सड़क के दोनों ओर गाड़ियों का तांता लगा रहा. मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था.
सभा की अध्यक्षता इंसाफ मंच के जिला अध्यक्ष आफताब आलम, इनौस के जिला अध्यक्ष राम कुमार, एवं माले के जिला सचिव प्रो० उमेश कुमार ने की. इनौस जिला सचिव आसिफ होदा, इंसाफ मंच जिला सचिव डा० खुर्शीद खैर, आइसा जिला सचिव सुनील कुमार, माले के ललन कुमार, सुरेंद्र प्रसाद सिंह, अशोक राय, मनोज राय, मनोज सिंह, अनीता देवी, रामनंदन पासवान, राज कुमार पासवान, कृष्ण कुमार, मुंशीलाल राय, समेत मो० एजाज़, चांदबाबू, आसिफ नूरैन, मो० सज्जाद, मो० शकील, मो० एकरामुल खान, राकी खान, आसिफ एकबाल, मो० सितारे, मो० नौशाद, अनील चौधरी, ग़ंगा पासवान, मो० खलील आदि ने सभा को संबोधित करते हुए नफरत की राजनीति के खात्मे को नीतीश- मोदी सरकार के खिलाफ संघर्ष तेज करने की घोषणा की.
मौके पर माले जिला सचिव प्रो० उमेश कुमार ने कहा कि नफरती ताकतें समस्तीपुर को प्रयोग स्थल बनाना चाहते रही है. इससे विकास तो बाधित होता ही है साथ ही जिलेवासी में भय का माहौल व्याप्त रहता है. कभी आधारपुर तो कभी अलतलहा तो फिर कभी मियांटोली… के नाम पर तथाकथित संगठन के कार्यकर्ता साजिश के तहत हमलावर रहे हैं. नफरत की राजनीति के खिलाफ अमन, चैन, भाईचारे की राजनीति को स्थापित करने को शांतिकामी जिलेवासी आगे आएं.
प्रो० कुमार ने कहा कि न्याय मिलने तक लोकतांत्रिक तरीके से भारतीय संविधान के तहत प्रदत अधिकार के अंतर्गत आंदोलन चलाया जाएगा. उन्होंने श्रोताओं को जानकारी देते हुए बताया कि सोमवार को समस्तीपुर के मुसरीघरारी की सड़क से लेकर संपूर्ण बिहार के जिला मुख्यालयों समेत बिहार विधानसभा में माले विधायकों द्वारा आंदोलन चलाया जा रहा है. अगर त्वरित न्याय नहीं मिला तो आंदोलन तेज किया जाएगा.