Home Breaking News ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के तत्वावधान में पेंशनधारी शिक्षक का प्रथम अधिवेशन।

ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के तत्वावधान में पेंशनधारी शिक्षक का प्रथम अधिवेशन।

95
 ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय पेंशन धारी शिक्षकों का प्रथम अधिवेशन।

8

पेंशनधारियों शिक्षक का प्रथम अधिवेशन स्थानीय आर बी कॉलेज के सकलदेव नगर में रविवार को पूर्व प्रधानाचार्य प्रो. उमेश चंद्र सिंह की अध्यक्षता में आयोजित की गई। अधिवेशन की शुरुआत आगत अतिथियों के द्वारा दीप प्रज्वलन से हुई। आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए आर बी कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ महेश चंद्र चौरसिया एवं मिथिला विश्विद्यालय शिक्षक संघ के वित्त सचिव प्रो संजय झा ने किया। अधिवेशन के संयोजक सह संरक्षक प्रो अमरेश शाण्डिल्य ने अधिवेशन के मुख्य उद्देश्य तथा सेवानिवृत्त शिक्षकों की समस्याओं पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि मिथिला विश्वविद्यालय सेवानिवृत्त अध्यापकों की समस्या की विश्वविद्यालय नजर अंदाज करता रहा है। नियमित पेंशन का भुगतान नहीं होने से पेंशन धारियों के सामने समस्या आती है। इसलिए पेंशन धारियों का एक मजबूत संगठन की आवश्यकता है। उन्होंने आगे कहा कि पूरे विश्व विद्यालय में एक हजार सात सौ अस्सी पेंशन धारी तथा फैमिली पेंशन धारी हैं। जिनके मान सम्मान के लिए एक संगठन बनाने के लिए बुलाया गया है। वही ऑल इंडिया शिक्षक संघ के पूर्व महासचिव प्रो विजेंद्र प्रसाद सिंह ने अपने उद्घाटन भाषण में गिरती शिक्षा व्यवस्था पर असंतोष व्यक्त किया ।साथ ही पेंशन धारियों की समस्या पर विश्वविद्यालय द्वारा भेद भाव करने पर भी दुःख व्यक्त किया। वहीं अधिवेशन को संबोधित करते हुए मिथिला विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉक्टर राजकुमार साह ने इस अधिवेशन के प्रति शुभकामना देते हुए अपेक्षित सहयोग करने का वचन दिया ।स्वागत गान वैष्णवी चौधरी ने किया।।मौके पर डॉ निर्भय सिंह द्वारा रचित “”धार्मिक मनन्यताओ का विज्ञान पुस्तक””का लोकार्पण भी किया गया।
दूसर सत्र जो परिणय सत्र की अध्यक्षता पूर्व प्रधानाचार्य टी पी चौबे ने की।जिसमे ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय पेंशन धारी शिक्षक संघ नियमाबलि, संविधान एवं इससे जुड़े विविध प्रारूपो का प्रस्तुति करण प्रो अमरेश शाण्डिय के द्वारा किया गया।जिसे सर्व सम्मति से स्वीकृत किया तत्पश्चात सांगठनिक पद धारको का चुनाव प्रो विजेंद्र प्रसाद सिंह पूर्व सचिव एआईफुकटो के पर्यवेक्षण में हुआ।जिसमें अध्यक्ष डॉ धर्मेंद्र कुँवर, उपाध्यक्ष प्रो रामभरत ठाकुर,संयोजक प्रो अमरेश शाण्डिल्य,बेगूसराय एवं समस्तीपुर के सह संयोजक डॉ निर्मल कुमार सिंह,दरभंगा मधुबनी के सह संयोजक प्रो चंद्रमोहन झा,एवं कोषाध्यक्ष उमेश चंद्र सिंह सर्व सम्मति से चुने गए।धन्यवाद ज्ञापन प्रो उमेश चंद्र सिंह ने किया।मौके पर प्रो विरेन्द्र सिंह,डॉ राजन वर्मा ,डॉ महेंद्र झा,डॉ बी पी सिंह,प्रो जयनारायण चौधरी,डॉ जवाहर लाल झा,डॉ पी के शर्मा,डॉ आनंद मोहन झा,डॉ भोला चौरशिया आदि मौजूद थे ।