67वां रेल सप्ताह समारोह में 250 कर्मी एवं अधिकारी डीआरएम अवार्ड से किए गए सम्मानित

77


सभी प्रमुख रेलपथ विद्युतीकृत : डीआरएम

67वां रेल सप्ताह समारोह में 250 कर्मी एवं अधिकारी डीआरएम अवार्ड से किए गए सम्मानित

फोटो कैप्शन : दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का उदघाटन करते डीआरएम एवं अन्य
 
प्रतिनिधि, समस्तीपुर :
समस्तीपुर रेल मण्डल अपने कर्मचारियों की दिन-रात की मेहनत के बदौलत नित्यदिन विकास के नित नये आयाम गढ़ रहा है, उसी का प्रतिफल है की रेल मण्डल में सभी प्रमुख रेलपथों पर विद्युतिकरण का कार्य लगभग पूरा हो चुका है. उन्होने खुद की लिखी कविता के माध्यम से कर्मियों को संबोधित करते हुए कहा की आज जैसा कर रहा है, वैसा ही अगर कल करेगा, मुश्किलें वैसे ही रहेंगी, कुछ न उनका हल मिलेगा, अलग नतीजा पाना है तो, कुछ अलग तो करना होगा, खुद को बदल या हालात बादल, कुछ तो तुझे बदलना होगा. इससे पहले
कार्यक्रम का उद्घाटन मंडल रेल प्रबंधक आलोक अग्रवाल , महिला रेल कल्याण संगठन की अध्यक्षा अनुजा अग्रवाल, अपर मंडल रेल प्रबंधक जफर आजम, एसोसिएशन की ओर से केके मिश्रा, अर्जुन कुमार ने दीप प्रज्वलित कर किया. इस दौरान स्वागत संबोधन करते हुए वरिष्ठ कार्मिक पदाधिकारियों पदाधिकारी ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि रेल के इतिहास पर प्रकाश डालते हुए रेल मंडल की उपलब्धियों को इंगित किया.
आरपीएफ़ कॉन्स्टेबल वेदानंद झा ने अपने बांसुरी के माध्यम से लंबी जुदाई गाना का धुन बजाकर खूब वाहवाही बटोरी.कार्यक्रम में 244 अराजपत्रित कर्मी एवं 6 राजपत्रित अधिकारियों के बीच पुरस्कार वितरण किया गया. समारोह के दौरान पिछले दिनों हाजीपुर में आयोजित क्षेत्रीय स्तर पर जीएम द्वारा रेल मण्डल को जो शील्ड प्राप्त हुई हैं, उसे शाखाधिकारियों द्वारा डीआरएम को भी सौंपा गया. संचालन सहायक कार्मिक अधिकारी चंद्रकिशोर ने किया.मौके पर सीनियर डीसीएम चंद्र किशोर, सीनियर डी ई एन कोआर्डिनेशन आरएन झा, सीनियर डीएमई राजीव रंजन, मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी सुबोध कुमार मिश्रा, सीनियर डी ई एन विनोद कुमार गुप्ता, कमांडेंट जे जानी, ई सी आर के यू के, अज/ आज यूनियन के सदस्य , पंकज कुमार आदि उपस्थित थे.
:::::::
ग्रुप अवार्ड के साथ रेलकर्मी भी पुरस्कृत
जोन स्तर पर 13 शील्ड लेने वाले सभी विभाग के विभागाध्यक्ष को सर्वप्रथम यह शील्ड सौंपा गया. मंडल रेल प्रबंधक ने अध्यक्षों को बेहतर परफॉर्मेंस के सराहना की. साथ ही उपलब्धि बनाए रखने को कहा. इसके बाद एक-एक करके रेल कर्मचारियों को पुरस्कार के लिए बुलाया गया जिन्हें मंडल प्रबंधक ने पुरस्कार प्रदान किया. इससे पहले रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया . जिस पर ललित कला केंद्र झूम उठा
:::::::
मैं भी हो गई रेल कर्मचारी…. उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए महिला कल्याण संगठन के अध्यक्षा अनुजा अग्रवाल की कविता पाठ ने लोगों को भावविभोर कर दिया. मैं भी हो गई रेलकर्मी….. के बोल से उन्होंने रेल कर्मचारियों के परिवारों की सहभागीता को भी बयां करते हुए रेलवे के विकास में उनके योगदान को भी सराहा.
::::::::
लाइव टेलीकास्ट
इस पुरस्कार वितरण समारोह का लाईव वेबकास्ट भी किया गया, जिसे मंडल के शेष अधिकारी, पर्यवेक्षक एवं कर्मचारियों द्वारा अपने परिवार के साथ सीधा देखा गया.